|| NOTICE BOARD ||

* * * THIS BLOG CAN BE BEST VIEWED ON GOOGLE CHROME * * * Quitters never win Winners never quit * * *

Friday, May 7, 2010

पर semester से डरता हूँ मैं माँ ...


पी०जी०डी०सी०ए० सोसाइटी के सम्मानित सदस्य श्री कृष्ण कुमार जी यानी के०के० ने परीक्षाओं के बारे में अपनी अभिव्यक्ति हमें एक कविता के माध्यम से दी है। हम उनकी इस रचना के लिए उन्हें धन्यवाद देते हुए उसे यहां प्रकाशित कर रहे हैं-

मैं कभी बतलाता नहीं... पर semester से डरता हूँ मैं माँ ...|
यूं तो मैं दिखलाता नहीं ... grades की परवाह करता हूँ मैं माँ ..|
तुझे सब है पता ....है न माँ ||

किताबों में ...यूं न छोडो मुझे..
chapters के नाम भी न बतला पाऊँ माँ |
वह भी तो ...इतने सारे हैं....
याद भी अब तो आ न पाएं माँ ...|


क्या इतना गधा हूँ मैं माँ ..
क्या इतना गधा हूँ मैं माँ ..||

जब भी कभी ..invigilator मुझे ..
जो गौर से ..आँखों से घूरता है माँ ...
मेरी नज़र ..ढूंढे qstn paper...सोचूं यही ..
कोई सवाल तो बन जायेगा.....||

उनसे में ...यह कहता नहीं ..बगल वाले से टापता हूँ मैं माँ |
चेहरे पे ...आने देता नहीं...दिल ही दिल में घबराता हूँ माँ ||


तुझे सब है पता .. है न माँ ..|
तुझे सब है पता ..है न माँ ..||

मैं कभी बतलाता नहीं... par semester से डरता हूँ मैं माँ ...|
यूं तो मैं दिखलाता नहीं ... grades की परवाह करता हूँ मैं माँ ..|

इस ब्लाग की सामग्री को यथाशुद्ध प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है फिर भी किसी भी त्रुटि के लिए प्रकाशक जिम्मेदार नहीं होगा